Latest News

सोमवार, 22 अप्रैल 2019

कैसे एक माँ को अपने 3 मासूम बच्चों से जुदा कर मौत के घाट उतारा#GLOBAL INDIA TV NEWS

दहेज के लोभी भेड़ियों ने दुल्हन को मौत के घाट उतारा, कौन दिलाएगा मासूम उमैरा को इंसाफ़ उसकी माँ के मौत हो जाने के बाद।।

कानपुर देहात: 22/04/2019 {संवाददाता अनुज कुमार} कानपुर देहात के रसूलाबाद के ग्राम अन्ता गुदेला थाना रसूलाबाद का है। यहाँ रहने वाले एक मुस्लिम परिवार के लोगो ने अपनी बहु को मौत के घाट उतार दिया। मृतक नासरीन के पति इरफ़ान उसकी सास फरीदा और ससुर रहिसुद्दीन अक्सर शादी के बाद से उसको दहेज के लिए परेसान करते रहते थे। कभी कभी तो नाफ़रीन को उक्त परिजन के द्वारा मारा पीटा भी जाता था। 
घटनानुसार बीते 16 अप्रैल को जब नासरीन अपने बहनोई की बहन की शादी से वापस अपने मायके ग्राम अन्ता पहुँची तो वहाँ पर उसकी सास फरीदा और उसका पति इरफान घर मे मौजूद थे। उन्होंने उससे क्या कहा ये कोई भी बताने को तैयार नही है।

नासरीन के मायके वाले पक्ष की माने तो उनका कहना है कि नासरीन का पति इरफान और उसकी सास हमेशा उससे मारपीट करते थे और 50,000 रुपया लाने के कहते थे। जब नासरीन ये कहती कि उसके मायके वाले इतने अमीर नही है कि वो आपकी इस तरह की मांग पूरी कर सके। मायके वालो ने बताया कि इसके पहले भी ससुराल वालों ने कुछ रुपया दो-तीन बार मंगा था। जिसको मायके वालों ने नासरीन के हाथों ससुराल भिजवाया था। एक बार ससुराल वालों ने 25000 रुपए मांगे थे फिर उसके कुछ समय बाद फिर 10000 मांगे थे जिसकी भरपाई नासरीन के मायके वालों ने की थी।

नासरीन के मायके वालों ने अपनी बेटी को कई बार समझाया कि इस तरह से तुमारे ससुराल वालों की आदत खराब हो जायेगी। उनको समझाओ की बार बार रुपया न मांगें। इस तरह से कब तक चलेगा। हम लोग इतने अमीर लोग नही है, तो नासरीन इन बातों को टाल देती थी। उसका कहना था कि कभी तो उसके ससुराल वाले धन के लोभी सुधर जाएंगे। मगर बेचारी नासरीन क्या जानती थी कि एक दिन यही लोग (ससुराल वाले) उसकी धन के लोभ में जान तक ले लेंगे।
बीती रात्रि महिला नासरीन की इलाज के दौरान हैलेट हॉस्पिटल में मौत हो गई अब तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही सच्चाई सामने आएगी। वास्तव में मृतक नासरीन की हत्या हुई है या आत्महत्या थी।

मायके वालों का कहना है कि:
मायके पक्ष का कहना: नासरीन के मायके वालों का कहना है कि घटना शाम करीब 5 बजे की थी मगर जब नासरीन के ससुराल वालों ने नासरीन को कानपुर के SIS हॉस्पिटल केशवपुरम, अम्बेडकर पुरम के ICU में भर्ती कराया तब तक उनको कोई जानकारी नही दी। मायके वालों का कहना है कि जब नासरीन के साथ यह घटना हुई तब उनको तुरंत क्यो नही बताया गया। उनका कहना है कि नासरीन ने खुद फाँसी नही लगाई, उसके ससुराल वालों ने ही नासरीन से रुपयों के बारे में पूछा होगा कि तुम 50000 रुपये लाई हो या नही? उसके बाद कहा सुनी हुई होगी जिसके बाद ससुराल के सभी लोगो ने मिलकर नाफ़रीन से मारपीट करी और उसके बाद गला दबा कर जान से मारकर नासरीन के दुपट्टे से ही फाँसी का फंदा बना कर लटका दिया होगा। मगर उसकी किस्मत अच्छी थी कि उसकी कुछ साँसे चल रही थी तब उसका पहले CT-Scan करवाया फिर कानपुर की तरफ भाग लिया। घर वालो ने बताया कि नासरीन का शौहर इमरान CT-Scan के बीच मे ही अपनी बेगम नासरीन को छोड़ कर भाग गया था। नासरीन के मायके वालों ने कहा कि नासरीन ने खुद फाँसी नही लगाई बल्कि सजे ससुराल वालों ने गला घोंटकर हत्या करने के बाद फाँसी के फंदे पर लटकाया है।

ससुराल वालों का कहना है कि:
हुआ यूं कि जब नासरीन एक शादी से वापस अपने ससुराल पहुँची उसके कुछ देर बाद घर और पूरे मोहल्ले में शोर मच गया। जब ग्रामीणों ने जानकारी करना चाही तो नासरीन के ससुराल वालों ने बताया कि नासरीन ने फांसी लगा ली हैं। मगर सोचने वाली बात यह है कि जब नासरीन खुसी ख़ुशी शादी के कार्यक्रम से अपने ससुराल वापस पहुँची थी तो ऐसा क्या हो गया कि उसने फाँसी लगा ली। ससुराल वालों में उसकी सास फरीदा का कहना है कि जब बहू शादी से वापस आई तब तक वो घर पर ही थी मगर फिर फरीदा गेहूँ की फसल काटने के लिए शाम को करीब 4-5 बजे अपने खेतों की ओर चली गई फिर उसको एक छोटे बच्चे न आकर बताया कि नासरीन की तबियत खराब हो गई है जल्दी घर चलो। तब फरीदा आपने घर पहुँची। उसके देखा कि नासरीन का पति और फरीदा का बेटा इरफ़ान बेहोश नासरीन को मोटरसाइकिल से अस्पताल की ओर ले जा रहा रहा। ससुराल वालों का कहना है कि नासरीन ने खुद को फाँसी लगाई है किसी ने उसकी हत्या नही की है।


SIS हॉस्पिटल के डॉक्टर का कहना:
नासरीन को हॉस्पिटल के ICU में भर्ती किया गया है उसके शरीर पर काफी गंभीर चोटें दिखाई दे रही है और गले मे भी गहरा निशान है जिसके आशंका जताई जा रही है कि महिला नासरीन के गले में दबाब बनाया गया है और उसकी हार्ट बीट और बल्डप्रेशर भी काफी तेजी से अप डाउन हो रही है अभी अगले 72 घण्टो तक कुछ कहा नही जा सकता है हालत काफी नाजुक है बचने के चांसेज भी काफी कम है।
इसके बावजूद भी नासरीन के ससुराल वालों ने ज्यादा खर्च की दुहाई देते हुए नासरीन को SIS हॉस्पिटल के ICU से जबरन निकाल कर उसको बीते दिन कानपुर के हैलेट हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया जहां बेहतर ईलाज के अभाव में उसकी नासरीन की मौत हो गई। बेचारी नासरीन के इस दुनिया से जाने के बाद उसके 3 मासूम बच्चों का क्या होगा? कौन देगा उसको माँ का प्यार?   

नासरीन का बड़ा बेटा फैजल लगभग 5 वर्ष का है, मंझला बेटा अयान 3 वर्ष का है और मासूम बेटी उमैरा मात्र 7-8माह की ही है। माँ के इस दुनिया से चले जाने के बाद उनको कौन माँ की ममतामयी प्यार से पालेगा|

पुलिस का कहना है कि-
नासरीन के घर वालो ने तहरीर दी है हटना की जानकारी प्राप्त हो गई है और अभी फिलहाल दहेज प्रथा, पारिवारिक हिंसा, गाली गलौज और मारपीट की धाराओं (498-A, 323, 504, 3,4) में मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है और रसूलाबाद थाना प्रभारी के द्वारा समय समय पर कानपुर के SIS हॉस्पिटल के डॉक्टर से बात करके महिला नासरीन की हालत की खबर ली जा रही है। महिला की स्थिति गंभीर बनी हुई है कुछ भी हो सकता है। उसके पति की तलाश जारी है ओर अगर कोई अप्रिय घटना होती है तो समुचित धाराओं में गिरफ्तारी भी की जायेगी।

मायके वालों के द्वारा दी गई तहरीर:
कलीमुद्दीन पुत्र सिराजुद्दीन निवासी ग्राम मित्रसेन पुर थाना कन्नौज, जिला कन्नौज का है। प्रार्थी गरीब एवं न्याय प्रिय व्यक्ति है। प्रार्थी की पुत्री नासरीन की शादी दिनांक 29 मई 2012 को इरफान पुत्र रहीसुद्दीन निवासी ग्राम अंता लैला थाना रसूलाबाद जिला कानपुर देहात के साथ मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार सगे संबंधियों को मध्य संपन्न हुई थी। जिसमें प्रार्थी ने अपने सामर्थ्य के अनुसार दान दहेज व सम्मान आदि दिया था। शादी के कुछ समय बाद ससुराल पक्ष पति इरफान ससुर रहीसुद्दीन सास फरीदा और उसकी नंदे, जेठ एवं मामा जिब्रिल व राजू आदि लोग शादी में कम दहेज लाने के कारण ₹50000 नगद व सोने की चेन की मांग करते हुए पुत्री के साथ आए दिन गाली गलौज करते हुए मारपीट करने लगे थे। जिसकी सूचना पुत्री द्वारा प्रार्थी को दी जाती रही थी, प्रार्थी ने पुत्री को ही समझाया कि धीरे-धीरे सब ठीक हो जाएगा तथा पुत्री के ससुराल जनों को समझाने का प्रयास भी किया परंतु यह लोग उक्त अतिरिक्त धन देने पर ही अड़े रहे। इस बीच पति पत्नी के वैवाहिक संबंध से 2 पुत्र व एक पुत्री पैदा हुए। उपरोक्त दहेज की मांग को लेकर दिनांक 16/ 4/ 2019 को समय लगभग 7:00 बजे को अपने घर के अंदर प्रार्थी की पुत्री को उक्त नामित व्यक्तियों ने एक राय होकर भयंकर तरीके से मार पीट कर फांसी पर लटका कर जान से मारने का प्रयास किया और पुत्री गंभीर रूप से घायल होकर बेहोश हो गई तथा उपरोक्त ससुराल जन पुत्री को एस आई एस अस्पताल केशव पुरम कल्याणपुर कानपुर में ले गए तथा मामा जी ने उनके फोन पर उक्त घटना की सूचना दी। तब प्रार्थी अपने परिजनों के साथ कानपुर उक्त हॉस्पिटल में गया जहां पुत्री की हालत गंभीर होने के कारण आईसीयू में भर्ती पाया जहां पर डाक्टरों द्वारा जानकारी हुई कि चोटे अधिक और गंभीर होने के कारण पुत्री के बचने की संभावना बहुत कम है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें


Created By :- KT Vision