Latest News

सोमवार, 22 अप्रैल 2019

नशे के काले धुएं में उड़ते हुए काकादेव के नवयुवक#GLOBAL INDIA TV NEWS

गांजे की पुडिया बेचता हुआ

कानपुर: 22/04/2019 (सूरज वर्मा) उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद में कई जगहों पर बुरी तरह से काले धुँए का कारोबार पैर पसार चुका है कानपुर के चकेरी थाना क्षेत्र हो या नौबस्ता या फिर चाहे बाबूपुरवा थाना क्षेत्र हो सभी जगहों को गुमटी और अन्य युवक और युवतियों के माध्यम से ये नशा बाजार में लोगों तक पहुचाया जाता है। इसी क्रम में आगर काकादेव थाना क्षेत्र की बात करे तो यहाँ पर महिलाओं और आदमियों ने मिलकर खड़ा किया नशे का बाजार गलियों और काकादेव बस्तियों में सजा है मौत का बाजार जैसा ग्राहक वैसा रेट।

कानपुर के काकादेव थाना क्षेत्र में खुलेआम की जाती है गांजा और स्मेक की बिक्री। नशे के सौदागर भी हो रहे मौत के शिकार कानपुर में तेजी से पसार रहा है गांजा स्मेक का कारोबार। कोचिंग मण्‍डी बनी जहर की सबसे बड़ी खरीदार, स्टूडेंट्स खुलेआम ले रहे हैं ड्रग्‍स। युवा नशे के दलदल में फंस कर अपनी जिंदगी बर्बाद करने पर तुले हैं।
बड़े नामी हॉस्पिटल के सामने से बिकता है काला नशा 


एक तरफ योगी सरकार बच्चों को अच्छी शिक्षा देने की बात कर रही है, लेकिन कानपुर के कई इलाकों में खुलेआम नशे का व्यापार हो रहा है और छोटे बच्चे से लेकर बड़े आदमी तक नशे के लती होते जा रहे हैं और दर्जनों घर बर्बादी कि कगार पर खड़े हैं। यहां पर छात्र गांजा, चरस, स्मैक और कोकीन जैसे ड्रग्स का बड़े पैमाने पर इस्तमाल करते हैं। लड़कों के साथ ही लड़कियों को भी इसकी लत पड़ चुकी हैं।

सूत्र बताते हैं कि खतरनाक जहर का कारोबार करने वाले माफिया इसे काकादेव कोचिंग मंडी कहलाने वाले इलाके में बिना रोक-टोक के पहुंचा रहे हैं और इनका साथ यहीं के कई कर्मचारी भी देते हैं। स्‍थानीय काकादेव पुलिस को लगता है मामले की भनक तक नही है, लेकिन वो नशा बेचने वाले को इस लिये नही पकड़ती क्योंकि वो लोग चौकी इंचाज से लेकर एसओ तक रुपया पहुँचा देते है इसलिए पुलिस इन पर हाथ नहीं डालती है और उसके बाद पुलिस अपनी आंख बंद कर लेती है।
काकादेव पुलिस और सर्वोदय नगर चौकी इंचार्ज के चौकी क्षेत्र में नशे का कारोबार हो रहा है।

काला नशा का कारोबारी 

काकादेव कोचिंग मण्‍डी और तो और एक विधायक के निवास के पास भी नशे का सामना बिक रहा है। सूत्र बताते हैं कि कोचिंग मण्‍डी में स्थित एक बड़े नामी हॉस्पिटल के सामने वाली गली में एक युवक और उसकी बीबी जिसको क्षेत्रीय लोग बुआ कह कर बुलाते हैं वह नशे का कारोबार खुलेआम काफी सालों से कर रहे हैं। स्थानीय निवासी राहुल सोनकर का आरोप है कि इस युवक की बीवी पर किसी पुलिस वाले का हाथ है इसलिए लोकल पुलिस इन पर हाथ नहीं डालती है।  


पुलिस की दुकानदारी यहां से सेट रहती है और तो और बहुत पुलिस वाले भी इस धंधे में लिप्त हैं। विदित हो कि गांजा और अन्य ड्रग्स के सेवन से युवाओं में चेस्ट पेन और हार्ट अटैक का खतरा बढ़ रहा है, पर इस सबके बावजूद कानपुर में सोने से भी महंगा बिक रहा है ये नशा। वो भी काकादेव पुलिस की नाक के नीचे पैर पसार रहा है ये काला धुँए का गोरख धंधा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें


Created By :- KT Vision