Latest News

बुधवार, 1 मई 2019

म प्र में कर्ज में डूबे किसान ने लगाई फाँसी#GLOBAL INDIA TV NEWS

कांग्रेस के चुनावी वादे निकले फर्जी, कर्ज़ मॉफी के नाम पर किसानों से हुआ धोखा। 


मध्यप्रदेश/रायसेन: 30/04 2019 (ब्यूरो नोशें खान) कांग्रेस के चुनावी वादे निकले फर्जी, कर्ज़ मॉफी के नाम पर किसानों से हुआ धोखा। किसी किसान के खाते में हज़ार की रकम भी नही पहुँची।कांग्रेस ने मध्य्प्रदेश में कर्ज मॉफी के नाम पर किसानों ने लुभा कर वोट बटोरे थे। मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार ने बनने से पहले किसानों से कहा था कि 2 लाख का सबका कर्ज मॉफ किया जायेगा। मगर जमीनी स्तर पर तो प्रदेस के हाल कुछ और ही बयाँ कर रहे है।
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि किसानों का दो लाख तक के कर्ज माफ होंगे लेकिन बैंको के और सोसायटी के ।लेकिन किसान को जब सोसायटी और बैंक कर्ज न दे तो किसान किससे कर्ज ले? यह बड़ा सबाल हैं लेकिन किसान आखिर में सूदखोरो और साहूकारों की शरण लेता है। साहूकारो का मूल और व्याज देने के बाद भी कर्ज बना रहता हैं ।आखिर में किसान के हाथ मौत को गले लगाने के अलाबा कुछ नही होता ।फिर कर्ज के तले किसान ने मौत को गले लगाया और सूदखोरों के नाम दो पेज का सोसाइड नोट भी छोड़ गया।
किसान ने कर्ज के चलते लगाई फाँसी, 2 पेज का सोसाइट नोट छोड़कर गया किसान
रायसेन जिले की तहसील गैरतगंज के ग्राम अंधियारी में रहने वाले पैसठ वर्षीय वृद्ध किसान भोलाराम लोधी पुत्र खरगराम लोधी का शव एक पेड़ से झूलता पाया गया। ग्रामीणों एवं परिजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। मृतक किसान एक दिन पहले शनिवार से अपने घर से बिना बताए लापता था तथा परिजन उनकी तलाश कर रहे थे। काफी तलाश के बाद किसान फांसी के फंदे पर झूलता मिला। मृतक किसान के शव से एक सुसाइड नोट भी बरामद किया है जिसमे उसने आत्महत्या का कारण किसी अशोक टंडन नामक व्यक्ति द्वारा प्रताड़ित करने की बात लिखी है सुसाइड नोट में लिखा है कि उसने अशोक टंडन नामक व्यक्ति से डेढ़ लाख रु लिया था जिसे उसने चुका दिया परन्तु वह दो लाख बीस हज़ार रु देने का दबाब बना रहा था तथा किसान की उपज भी वह लेकर चला गया। और 5 एकड़ जमीन नाम कराने का दबाब बना रहा था। 
मृतक किसान के पुत्र देवीसिंह, मथुराप्रसाद, हेमंत एवं गौरीशंकर ने बताया कि उनके पिता को प्रताड़ित किया गया है जिसका प्रमाण सुसाइड नोट है। तथा उन्होंने इसी कारण मौत को गले लगाया है। बाद में मौके पर ग्राम अंधियारी शव को उतारने पहुंची पुलिस टीम को भी पेड़ से शव उतारने में काफी मशक्कत के सामना करना पड़ा। ग्रामीणों ने कार्रवाई की मांग को लेकर रात्रि आठ बजे तक शव को पेड़ से नीचे नहीं उतारने दिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें


Created By :- KT Vision