Latest News

सोमवार, 13 मई 2019

बैटरी दुकानदार ने बेटे की करी पिटाई, क्षुब्ध पिता ने फाँसी लगाई#GLOBAL INDIA TV NEWS

बैटरी दुकानदार से पैसे के लेन-देन पर दुकानदार द्वारा पुत्र की पिटाई करी इससे सदमे में पिता ने लगाई फांसी

कानपुर : 13/05 2018 (संवाददाता उपदेश कुमार) कानपुर के शिवराजपुर संवाददाता उपदेश कुमार गौतम के बड़े भाई कमलेश कुमार गौतम ने संदिग्ध परिस्थितियों में बीते दिवस फाँसी लगा जान दे दी। बताया जा रहा है कि उनकी उम्र 40 वर्ष थी उनके पिता का नाम सुमेर गौतम है जो रतनलाल नगर सी ब्लॉक कच्ची बस्ती गुजैनी कानपुर, पुलिस चौकी के सामने जन्म से रहते चले आ रहे हैं। कल दिनांक 12-05-2019 की रात्रि को विषम परिस्थिति में फाँसी लगा ली। वह अपनी पत्नी सुनीता 35 वर्ष व दो पुत्र एक पुत्री, बड़ा पुत्र नितिन कुमार गौतम 12 वर्ष छोटा पुत्र साहिल 10 वर्ष व पुत्री स्वाति 6 वर्ष को छोड़कर इस दुनिया से अलविदा कहकर चले गए।चौकी प़भारी रतनलाल नगर ने बताया कि फांसी लगाने का कारण यह बताया जा रहा है कि कल इनका छोटा बेटा डायमंड नाम की एक बैटरी की दुकानदार जो कि रतन लाल नगर में है जिससे कुछ समय पहले 1500 रुपए लिए थे। जो कि देना बाकी थे। उस बकाए की रकम के प्रति डायमंड दुकानदार कई बार उत्पीड़न कर चुका था। 


कल उसका छोटा बेटा साहिल ₹500 लेकर के उस बैटरी वाले डायमंड को देने गया था। तो डायमंड ने उस बच्चे साहिल से 500/-रूपये भी ले लिए और मोबाइल भी छीन लिया। जब साहिल ने पूछा तो डायमंड उसे मारने लगा, मारने के बाद उसको भद्दी भद्दी गालियाँ देने लगा और जान से मारने की धमकी दी, उसने कहा कि अपने पिता को बता देना कि मेरे शेष 1000/-रू दें आकर, तभी मै तेरा मोबाइल दूंगा। मारने के बाद बोला कि यदि तेरा पिता आया होता तो मैं उसको बहुत मारता तुझे इतना ही मार कर के छोड़ दे रहा हूं।

घर जाकर बता देना जाकर के यह धमकी नहीं। यह बात उस डायमंड बैटरी वाले ने उस छोटे पुत्र से कहीं। उसके बेटे ने आप बीती लड़के ने घर जाकर अपने पापा को बताया उसका पिता एक छोटी मोटी प्राइवेट नौकरी करता था। जिससे अपने तीन बच्चों सहित पति-पत्नी का गुजारा कर रहा था। इस मारपीट की घटना से कमलेश को इस बात का गहरा सदमा लग गया कि उसने आज मेरे बेटे को मारा और मुझे वह मुझे भी मारने के लिए बोल रहा है। पैसा ना होने के कारण वह डायमंड की इतनी बात सहन नहीं कर सका और उसने अपने कमरे में आकर रात में फांसी लगाकर अपनी आत्महत्या कर ली।
सुबह जब उसकी पत्नी और बच्चे उठ कर के उसके कमरे में देखने गए तो कमरा बंद अंदर से पाया जब दरवाजा तोड़ा गया तो देखा कि वह फांसी पर लटके हुए थे। पुलिस को सूचना दी गई पुलिस मौके पर काफी समय बाद पहुंची और यह सवाल पुलिस को समझ नही आया कि क्यों उसने फांसी लगा ली? जबकि घर वालो का कहना है कि डायमंड की मारपीट करने और जान से मारने की धमकी देने की वजह से मृतक कमलेश ने सदमे में आकर फांसी लगाई है। उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। 
पुलिस घर वालो को पोस्टमार्टम जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन देकर चले गए। मौके पर कोई आला अधिकारी उस नहीं पहुंचा। फिलहाल मृतक की मिट्टी का पोस्टमार्टम होने के बाद ही हकीकत सामने आ सकती है। चौकी प्रभारी रतनलाल नगर, कानपुर नगर ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद सही जानकारी प्राप्त हो सकती है फिलहाल बैटरी दुकानदार को पूछताछ के लिए तत्कालीन पकड़ लिया गया है। पूछताछ की जा रही है।
पुलिस की इस तरह की कार्यवाही पर संदेह बना हुआ है यदि एक पत्रकार के घर की घटना पर पुलिस का रवैया इतना ढुलमुल है तो आम जनमानस के साथ क्या होता होगा। ये सवालियां निशान पुलिस पर बन रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें


Created By :- KT Vision